शहर के देसी हैंडसम लडके के साथ गाँव की आकर्षक और कामुक लडकी का तीव्र सेक्स

मेरा नाम चमेली है और में २४ साल की जवान लड़कीं हु। में १० वी तक ही पढ़ चुकी हूं और में बहुत होशियार और अक्लमंद लड़कीं हु। मेरे माता पिता के पास पैसे नही थे तो वो मुझे पढा न सके और मैंने भी अभ्यास मे रुचि होने से भी उनकी बात को मान गई और घर पर रह गई। मेरे माता पिता अब मेरे शादी के बारे मे सोच रहे है।

में दिखने मे बहुत गोरी कडक और मस्त हु, मेरे शरीर का रंग इतना गोरा है कि में खेत मे काम करती हूं तब में पूरी लाल हो जाती हु। मेरे स्तन गोल आकार के और कडक है, मेरे कुल्ले भी बहुत मस्त और कडक दीखते है। मेरे गुलाबी ओठ बिल्कुल गुलाब जैसे मुलायम और आकर्षक है। में आपको मेरे साथ हुई एक मस्त और आकर्षक घटना बताती हु। मैने शहर के देसी हैंडसम लडके के साथ कामुक होकर सेक्स का मजा लिया।

में एक दिन खेती में काम कर रही थी और सामने से गाड़ी में एक व्यक्ति आता है। वो दिखने गांव का नही लगा और वो गाडी में आया, उसने मुझे गाव का रास्ता पूछा और मैने बताया। उसके अगले ही दिन उसी वक्त वो हमारे खेती में आ गया। उसकानाम आकाश था, उसने मेरे खेतो का टमाटर ले लिया और खाने लगा, मैने उसे कहा, “बहुत मस्त और लाल है यह टमाटर”. शहर के देसी हैंडसम लडके के ऐसे बोलने से मुझे बहुत गुस्सा आ गया और मैने उसे जाने के लिए कहा।

मेरे पिता आ गए और मुझे समजाने लगे और मे चुप बैठ गई। उनकी इस बोलने से में मेरा काम करने लग गई। अगले दिन भी वो लड़का आ गया और उसका नाम आशीष ऐसा है, यह मुझे पता चल गया। ऐसेही वो हररोज आने लगे और मैने उनसे दोस्ती की। वो मन से बहुत अच्छे है यह मुझे पता चल गया।

हम दोन्हों अच्छे दोस्त बन गए और वो दिखने में बहुत कडक और आकर्षक है। मैने उनसे कहा की, “आप बहुत अच्छे गोरे, कडक और आकर्षक दिखते है”। तो उसने मेरे आँखोंमें आंखे डालकर देख लिया। मैने उनसे कहा, “आप कल मेरे घर आ जाना औरमे आपकी राह देखूंगी”। शहर के देसी हैंडसम लडके ने हा कह दिया और उनकी यह बात सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा। फिर अगले दिन वो खेतमे आ गए और दोपहर का वक्त था। मैने उस दिन पंजाबी ड्रेस पहना था और वो मुझे बहुत अच्छा दिख रहा था। आकाश ने जीन्स पैंट और नीले रंग का शर्ट पहना था और उस शर्ट में उसका बदन बहुत कडक और मस्त दिख रहा था। उसके गुलाबी ओठ देखकर मुझे बहुत कामुक हुवा और मैने उसका हात मेरे हात में लिया।

मैंने इधर उधर देखा कोई नही था और उतने में शहर के देसी हैंडसम लडके ने मुझे जमीनपर सुलाया और मेरे ओठोंको चुमा। मैने भी उसे प्रतिसाद देते हुए उसके ओठोंको चुमा और जुबान को जुबान लगाकर फ्रेंच कीस किया। हम दोन्होंने एकदूसरे के ओठोंको बहुत मग्न होकर चूम लिएऔर साथ मे एकदूसरे के बदन पर अपना हातोसे सहलाया। उसने मेरे गोल स्तन पर बहुत मदमस्त होकर चुमा और मेरा टॉप ऊपर कर दिया। मेरे ब्रा की ऊपर से स्तनों को चुमा और दबाकर मजा लीया।

कडक लड़के के स्पर्श से मुझे बहुत कामुक हुवा और मैने उठकर अपना टॉप निकाल लिया। उसने मेरे गलेपर, गालोपर बहुत कामुक होकर चुमा। फिर उसने मेरे ब्रा का हुक्क खोल दिया और मेरे पिट पर अपने हात सहलाए। मुझे बहुत मस्त और कामुक हुवा, और हम दोन्होंने एकदुसरे के ओठोको चुमा।

मैने शहर के देसी हैंडसम लडके के शर्ट के बटन खोल दिए और उसके छाती पर चुमा। फिर मैने उसकी पँट निकाली और लंड बाहर निकाला। उसका बहुत बडा लंड देखकर मेरे होश उड गए। मैने झट से लंड के अगले हिस्से को चुमा और उसने आह…. करके मुझे प्रतिसाद देकर मजा लिया उसका बहुत कडक और आकर्षक बदन देखकर मैने लंड को बहुत कामुक होकार चुस लिया। मैने लंड की सारी और मदमस्त होकार चाटकर लंड को अंदर बाहर करते हुए धक्के दे दीए।

कुछ देर बाद उसने मेरे पँट का नाडा खोल दिया और मेरे चड्डी की ऊपर से चुत को चुमा। मेरी कडक चुत बहुत मस्त और कामुक हो गई और मैने आ.. आ…करते हुए आवाज किया। फिर उसने मेरी चड्डी निकालकर मुझे जमीन पर लिटाया और मेरे कडक स्तन को दबाते हुए चुत को चुमा।

फिर मैने कामुक होकार अपने पैर फैलाए और शहर के देसी हैंडसम लडके ने मेरे चुत के ऊपर जुबान से सहलाया। मेरे गुलाबी और आकर्षक चुत पर वो बाघ की तरह टूट पड़ा और तीव्र होकर चाटने लगा। उसने मेरे चुत के छिद्र को अपनी जुबान लगाई और मुझे कामुक कर दिया। मैंने उसके सर को पकड़कर मज़ा लिया और चिल्हाते हुए उसे प्रोत्साहित किया। कामुक होकर उसने अपनी पैंट उतारी और मेरे चुत पर अपना लंड घिसा।

फिर उसने मेरे चुत में अपना लंड घुसाया और अंदर बाहर करके मजा लिया। मैंने भी उसे प्रतिसाद देते हुए अपनी गांड नीचे से हिलाकर उसे प्रोत्साहित किया। उसने मेरे प्रतिसाद से कामुक होकर मुझे तीव्र होकर धक्के देकर मुझे सुख दिया। वो मेरे ऊपर सो गया और ऊसने मेरे ओठोंको चुमा और मैंने भी उसे प्रोत्साहित करते हुए खूब मजा लिया।

कुछ देर बाद मैंने शहर के देसी हैंडसम लडके को नीचे सुलाया और में उसके उपर सो गई।

मैने उसके लंड को अपनी चुत को लगाया और घुसाकर लिया। मैन आ.. आ… आ… आ… करते हुए धीरे धीरे से धक्के देकर खूब मजा लिया और उसने मेरे गोल स्तनों को दबाकर सहलाया। फिर उसने मेरेकडक चुचियों को पकड़कर चिमटे निकाले और खूब मजा लिया। उसने मुझे पास खींच लिया और मेरे आकर्षक स्तन को मदमस्त होकर चुमा। मैंने अपनी गांड़ आगे पीछे करते हुए उसका कडक लंड घुसाकर लिया और आनंद ले लिया।

शहर के देसी हैंडसम लडके ने मेरे गांड़ को पकड़कर ऊपर निचे करते खूब धक्के दिए और मुझे और ज्यादा प्रोत्साहित कर दिया। हम दोन्होने इस प्रकार कामुक होकर ख़ूब मजा लिया। कुछ वक्त ऐसेही धक्के दिए उसके बाद मेरे चुत से पानी आ गया और मैने बाहर छोड़ा। ऊसके लंड को वीर्य आने वाला था, इसीलिए मैंने उसे धक्के दिए और उसके लंडसे वीर्य आ गया। इस प्रकार हम दोन्होने वीर्य आने तक एकदूसरे को धक्के देकर खूब मजा लिया और मुझे स्वर्ग सुख मिल गया। इस प्रकार हम दोन्होने सेक्स का मजा लिया और मुझे वो दिन अब भी बहुत याद आता है। हम दोन्होंने उसके बाद सेक्स नही किया और वो मुझे नही मिला।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *